चीनी सामान की कोई गारंटी नहीं; लॉन्चिंग के तुरंत बाद ब्लास्ट हुआ रॉकेट रिहायशी इलाके में गिरा

चीनी सामान की कोई गारंटी नहीं; लॉन्चिंग के तुरंत बाद ब्लास्ट हुआ रॉकेट रिहायशी इलाके में गिरा

Chinese Rocket Launch Fail: हमने अक्सर सुना है कि चीनी सामान पर कोई गारंटी नहीं होती। हाल ही में चीन में हुआ ये रॉकेट लॉन्च हादसा इस बात को बिल्कुल सच साबित कर रहा है, जिसकी सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है. दरअसल, चीन और फ्रांस मिलकर 22 जून को संयुक्त रूप से लॉन्च किए गए सैटेलाइट को अंतरिक्ष में भेज रहे थे, लेकिन लॉन्च के कुछ देर बाद ही रॉकेट में विस्फोट हो गया और उसका एक हिस्सा रिहायशी इलाके में गिर गया, जिससे लोगों में दहशत फैल गई।

लॉन्च होते ही घरों पर गिरा चीनी रॉकेट

जानकारी के मुताबिक लॉन्ग मार्च 2-सी रॉकेट को चीन और फ्रांस के संयुक्त कार्यक्रम के तहत लॉन्च किया गया था और इसके कुछ देर बाद ही रॉकेट का एक हिस्सा रिहायशी इलाके के पास गिर गया. स्पेस वेरिएबल ऑब्जेक्ट मॉनिटर (एसवीओएम) नामक उपग्रह के साथ चीनी अंतरिक्ष यान को शिचांग सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से लॉन्च किया गया था लेकिन लॉन्चिंग के बाद रॉकेट का बूस्टर पृथ्वी पर गिर गया। अब इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में रॉकेट को आबादी वाले इलाके में गिरते हुए देखा जा सकता है. रॉकेट को नीचे आता देख लोगों में भगदड़ मच गई और लोग अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे. जानकारी के मुताबिक, लॉन्ग मार्च 2C में नाइट्रोजन टेट्रोक्साइड और अनसिमेट्रिकल डाइमिथाइलहाइड्राज़िन (UDMH) का हाइपरगोलिक मिश्रण का उपयोग किया जाता है।

चीन का दावा- मिशन सफल

हालाँकि, चीन ने अपने मिशन को सफल बताया है और कहा है कि तारों के सबसे दूर के विस्फोटों का अध्ययन करने वाला अब तक का सबसे शक्तिशाली उपग्रह सफलतापूर्वक कक्षा में पहुँच गया है। चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन के अनुसार, उपग्रह का मिशन गामा-किरण विस्फोट सहित खगोलीय घटनाओं का अध्ययन करना है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, यह खगोलीय खोजों को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएगा। यह चीन और फ्रांस द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया पहला खगोल विज्ञान उपग्रह है, जो अंतरिक्ष और चंद्र अन्वेषण में बीजिंग की बढ़ती ताकत को दर्शाता है, जिसने यूरोपीय और एशियाई भागीदारों से सहयोग आकर्षित किया है।

 

Leave a comment