विनेश फोगाट ने रचा इतिहास, दो विश्व चैपियन पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी

विनेश फोगाट ने रचा इतिहास, दो विश्व चैपियन पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी

नई दिल्ली: भारत को विश्व रेसलिंग चैपियनशिप में पहला मेडल मिल चुका है। देश की स्टार पहलवान विनेश फोगाट ने लगातार दूसरी बार विश्व चैपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल हासिल कर लिया है। विनेश ने बुधवार 14 सितंबर को रेपंचाज के जरिए ब्रॉन्ज मेडल मुकाबले में अपनी जगह बनाई थी। इस मैच में विनेश ने यूरोपियन चैपियन जॉना मैलमग्रेन को हराते हुए इस बार की चैपियनशिप में भारत का खाता खोला दिया है। हालांकि विनेश अपने पिछले प्रदर्शन को सुधार नहीं पाई, लेकिन एक बार फिर वह अपनी झोली में मेडल के साथ वापस लौटी है।

बता दे कि इस मेच में पहले 10वीं वरीयता प्राप्त विनेश फोगाट को मंगलवार को क्वालिफिकेशन राउंड में हार का सामना करना पड़ा था। उन्हें क्वालिफिकेशन राउंड में मंगोलिया की खुलान बतखुयाग ने 7-0 से हरा दिया था। संयोगवश वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए विनेश ने सेलेक्शन ट्रायल्स में जिस जूनियर रेसलर अंतिम को हराया था, उसने पिछले महीने हुए अंडर-23 एशियन मीट में मंगोलियन पहलवान को हराया था। हालांकि, विनेश उस मंगोलियन पहलवान से पार नहीं पा सकीं। वहीं क्वालिफिकेशन रांउड में हारने के बाद विनेश को रैपचेज राउंड के लिए खेलना पड़ा था। इसके साथ उनको क्वालिफिकेशन राउंड में हराने वाली मंगोलियन पहलवान फाइनल में पहुंची थी। ऐसे में विनेश को रैपचेज राउंड में पहुंचने का मौका मिला। रैपचेज राउंड के पहले मैच में उन्होंने कजाकिस्तान की जुल्दिज एशिमोव को पिनफॉल (4-0) के फैसले से हराया।

वहीं इसके बाद अगले मुकाबले में उनकी प्रतिद्वंद्वी अजरबैजान की लेयला गुरबानोव चोट की वजह खेलने नहीं आई। ऐसे में विनेश कांस्य पदक के मुकाबले में पहुंच गईं। कांस्य पदक के मुकाबले में उन्होंने स्वीडन की पहलवान को कोई मौका नहीं दिया और जीत हासिल की।

Leave a comment