मेंटल हेल्थ के लिए सोशल मीडिया बना खतरों का Hotsport, डिप्रेशन और अकेलापन का शिकार हो रहे हैं लोग

मेंटल हेल्थ के लिए सोशल मीडिया बना खतरों का Hotsport, डिप्रेशन और अकेलापन का शिकार हो रहे हैं लोग

Health: आजकल ज्यादातर लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं। यही कारण है कि सोशल मीडिया लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर असर डाल रहा है। एक अध्ययन में पाया गया है कि सोशल मीडिया के उपयोग के नकारात्मक प्रभावों में डिप्रेशन और अकेलापन शामिल है।यह स्टडी जर्नल ऑफ सोशल एंड क्लीनिकल साइकोलॉजी के द्वारा की गई है।

बता दें कि इस रिसर्च में कहा गया है “ हमने कुल मिलाकर पाया कि अगर आप कम सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं, तो आप वास्तव में कम उदास और कम अकेले होते है। इसका मतलब है कि सोशल मीडिया का कम उपयोग आपके कल्याण में गुणात्मक बदलाब का कारण बनता है”।  इसके अलावा ये भी कहा कि इससे पहले, हम बस इतना ही कह सकते थे कि सोशल मीडिया के इस्तेमाल से सेहत पर गलत असर पड़ता है।

सोशल मीडिया का उपयोग करने के तरीके से डिप्रेशन का कारक बन सकता है

सामाजिक तुलनात्मकता (Social Comparison):सोशल मीडिया पर लोग अपनी जिंदगी के सफल हिस्से या खुशी की झलक शेयर करते हैं, जिससे अन्य लोग उनसे अपना जीवन तुलना करते हैं। यदि यह तुलना असंतोषजनक होती है, तो इससे निराशा और आत्मसम्मान कम हो सकता है।

अलगाव और अकेलापन (Isolation and Loneliness):विशेषकर जब लोग सोशल मीडिया पर बाहरी दुनिया के साथ जुड़े होते हैं, तो असल जीवन में अकेलापन का अहसास हो सकता है। यह आत्मविश्वास को प्रभावित कर सकता है और अंततः डिप्रेशन का कारक बन सकता है।

अनियमित और अधिक स्क्रीन उपयोग (Irregular and Excessive Screen Time):सोशल मीडिया का अधिक उपयोग करने से नींद की कमी हो सकती है, जो मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। यह भी डिप्रेशन के लिए एक कारक बन सकता है।

काम की प्रतिक्रिया (Feedback Loops):कई लोग सोशल मीडिया पर अपनी पोस्टिंग्स का प्रतिक्रिया देखने के लिए प्रत्येक क्षण देखते हैं, जो अगर नकारात्मक हो तो उनकी मानसिक स्थिति को प्रभावित कर सकता है।

Leave a comment