'आ गए मेरी मौत का तमाशा देखने..', फिल्म की शूटिंग के लिए नाना पाटेकर ने किया ये काम

'आ गए मेरी मौत का तमाशा देखने..', फिल्म की शूटिंग के लिए नाना पाटेकर ने किया ये काम

Nana Patekar: बॉलीवुड क दिग्गज एक्टर नाना पाटेकर ने अपने करियर मे एक से बढ़कर एक फिल्म में काम किया है। वो जिस भी फिल्म का हिस्सा होते थे, उसमें लीड एक्टर कोई भी हो चर्चा उन्हीं की होती थी। अपनी अदाकारी के कारण उन्हें ऑडियंस के द्वारा बेहद पसंद किया जाता है। ‘परिंदा’से लेकर ‘तिरंगा’तक, जैसी कल्ट क्लासिक में नाना पाटेकर अपनी अदाकारी से एक अलग छाप छोड़ने में सफल रहे है। उनकी सबसे चर्चीत फिल्म क्रांतिवीर के कई डॉयलॉग को लोगों ने काफी पसंद किया है। ‘ये मुसलमान का खुन, ये हिंदू का खून…’तो सभी की जुबान पर रहता है।  

दरअसल, क्रांतिवीर के क्लाइमेक्स से पहले नाना पाटेकर की तबीयत ठीक नहीं थी और वो अस्पताल में भर्ती थे। ऐसे में एक्टर अस्पताल से छुट्टी लेकर सीधे शूटिंग सेट पर पहुंच गए है। फिल्म के क्लाइमेक्स में फांसी की सजा से पहले नाना पाटेकर एक डायलॉग बोलते हैं। ‘आ गए मेरी मौत का तमाशा देखने’। लोगों ने इस डायलॉग को खूब पसंद किया। साथ ही साथ दर्शकों को आज भी ये डायलॉग याद है, लेकिन अब नाना पाटेकर ने बताया है कि फिल्म की स्क्रिप्ट में ये डायलॉग था ही नहीं। उन्होंने तुरंत ये सीन परफॉर्म किया था और ये डायलॉग भी उन्ही की रचना थी।

एक्टर ने शूट के लिए किया ये काम

गौरतलब है कि नाना पाटेकर ने कहा है कि “ हम अस्पताल मे थे और दूसरे दिन क्रांतिवीर की शूटिंग थी। मैंने कहा, मैं आज मर गया तो मेरा प्रोड्यूसर और डायरेक्टर कल मर जाएगा। हम ऐसा करते हैं कि पहले फिल्म शूट कर लेते हैं। तो डॉक्टर भी मेरे साथ गए। उन्होंने 3 स 4 कार्डियोग्राम करवाए, सोचा ठीक है कर लेंगे। लेकिन, डॉक्टर ने कहा 2 से 3 दिन आराम करो, शुट बाद में करना। इसके बाद नाना पाटेकर ने खुलासा किया कि उन्हें चेस्ट में पेन था, जिसके चलते उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। फिल्म का क्लाइमेक्स 6 से 7 दिन में शूट होना था, लेकिन उन्होंने अस्पताल से छुट्टी लेकर 2 से 3 घंटे में ही शूट खत्म कर दिया था।

Leave a comment